9.11. 2014

ग्रहों का ज्योतिष

>> ग्रह

ज्योतिष वस्तुओं और अन्तरिक्ष में होने वाली गतिविधियों के सम्बन्ध में विज्ञान है। विशेष तौर पर ग्रहों, चन्द्रमा, सूर्य और दूसरे नक्षत्रों की गति। और साथ ही जिस भूमिका को वे पृथ्वी पर विभिन्न घटनाओं पर प्रभाव डालने में निभाते हैं। इस परम्परागत वैज्ञानिक विषय-क्षेत्र का नाम एक प्राचीन यूनानी शब्द एस्ट्रॉन = नक्षत्र और लोगोस से आता है।

ग्रहों का ज्योतिष

ज्योतिष कोई नियति विज्ञान नहीं है। इसका अर्थ है कि इसमें उदाहरण के लिए, गणित के विपरीत सटीक तर्क निहित नहीं है। ज्योतिष केवल ढर्रों और प्रवृत्तियों का वर्णन करता है। अतीत और वर्तमान घटना की व्याख्या करके और समझ करके हम भविष्य की घटनाओं की भविष्यवाणी कर सकते हैं। मानव मानस, भौतिक शरीर, व्यक्तियों के स्वास्थ्य, और दुनिया में वैश्विक घटनाओं पर इन खगोलीय घटनाओं के प्रभाव को मापना सम्भव है।

इतिहास

प्राचीन युगों से ज्योतिष लगभग सभी संस्कृतियों में प्रकट होता आ रहा है। नक्षत्रों की जाँच करना ऐसे लोगों की प्रवृत्ति सदैव रही है जो प्राकृतिक घटनाओं को समझे थे। उदाहरण के लिए जो अच्छी तरह पढ़े-लिखे लोगों को मात्र सूर्य का एक ग्रहण प्रतीत होता था, वह अशिक्षित लोक के लिए बहुत भयावह अनुभव था।

अरस्तू अन्तरिक्ष के मॉडल को नाम पहले से ही दे दिया था, जो प्राचीन काल तक बना रहा था। ईसाई पद्धति के कारण, ज्योतिष को कुछ क्षेत्रों में अवैथ माना जाता था। आगे की दिशा में एक महत्वपूर्ण क़दम इतालवी पुनर्जागरण के दौरान उठाया गया था। दो प्रभावशाली चरित्रों का उल्लेख करना महत्वपूर्ण है, जो जिन्हें इस क्षेत्र में गुरु माना गया है। सिगमण्ड फ़्रॉयड और सी. जी. जंग।

ग्रहों की दृष्टियाँ और युतियाँ

ग्रहों की दृष्टियाँ राशिफलों की व्याख्या करने में सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक हैं। इसका वास्तव में क्या अर्थ है? किसी ग्रह की दृष्टि की कल्पना दो ग्रहों और पृथ्वी के बीच एक कोण के रूप में करें, जहाँ पृथ्वी सदैव शीर्ष पर है।

जो कोण तीन, छ: या बीस से विभाज्य हैं, उन्हें आमतौर पर सकारात्मक दृष्टियों के रूप में माना जाता है। इसके विपरीत जो कोण चौदह या आठ से विभाज्य हैं, वो आमतौर पर नकारात्मक हैं। ये ज्योतिष में महत्वपूर्ण नियमों के उदाहरण हैं।

विशेष मामला यह होता है, जब दो ग्रहों का पृथ्वी के साथ शून्य का एक कोण होता है, तब इसे युति कहा जाता है। अन्यथा विचलन-रहित कोण जो समकोण हैं उन्हें एक आदर्श दृष्टि के रूप में माना जाएगा। आदर्श युति तब होती है जब कोण समकोण होते हैं, या जब वे शून्य होते हैं। उदाहरण के लिए चतुर्थांश कोण को सटीक रूप से 90 अंश का होना चाहिए, परन्तु उन्हें शायद ही कभी इतना सटीक पाया जाता है। वे आम तौर पर 85 और 95 अंश के बीच होते हैं।

सूर्य

सूर्य हमारे सौरमण्डल का केन्द्र है। यह ऊर्जा, प्रकाश और इसलिए जीवन का, एक स्रोत है। यह नक्षत्र आत्मविश्वास, उदारता और आतिथ्य का एक सकारात्मक प्रारम्भक है। नकारात्मक चिह्नों में आवारगी और घमण्ड सम्मिलित हैं। सूर्य दैनिक समय और सिंह राशि का स्वामी भी है। सूर्य पिता और हमारी पुरुष प्रवृत्तियों के बीच सम्बन्धों का प्रतीक भी है, क्या हम निर्णायक हैं, क्या हम आत्मविश्वासी हैं या क्या हम इन दोनों में से कोई नहीं होते हैं।

चन्द्रमा

चन्द्रमा रात्रि और साथ ही कर्क राशि का स्वामी है। यह पृथ्वी का एक प्राकृतिक उपग्रह है जो अपने चक्र से पृथ्वी पर बहुत सी बातों को प्रभावित करता है। सकारात्मक अर्थ में यह व्यक्तिगत लोकप्रियता का संकेत देता है, अधिकतर कार्यक्षेत्र के परिवेश में, जहाँ सामाजिक मेलजोल की एक बहुतायत है - उदाहरण के लिए चिकित्सक, मनोवैज्ञानिक, या अभिनेता। इसका टैक्सी चालकों या वितरण कर्मियों जैसे व्यवसायों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। चन्द्रमा अधिकतर हमारे बचपनों में, हमारे परिवारों के भीतर और विशेष रूप से हमारी माताओं के साथ सम्बन्धों में प्रतिबिम्बित होता है।

बुध ग्रह

यह ग्रह, जो सूर्य के सबसे समीप है, कन्या और मिथुन राशियों का स्वामी है। इसके हमारी बुद्धि, भाषा और संचार पर प्रभाव पड़ते हैं। बुध ग्रह चेतन और अवचेतन के बीच एक पुल प्रदान करता है। यह संचार को, इसलिए जीभ, चेहरे की माँसपेशियों और वाचा रज्जुओं को प्रभावित करता है। बुध ग्रह हमारे भाई-बहनों और हमारे निकटतम परिवार के सदस्यों के साथ सम्बन्धों का प्रतीक है।

शुक्र ग्रह

शुक्र ग्रह अधिकतर तुला और वृषभ राशियों को प्रभावित करता है। यह ग्रह मुख्य रूप से प्रेम और सम्बन्धों का प्रतिनिधित्व करता है। आम तौर पर, यह सभी सौन्दर्य और समृद्धि का प्रतीक है, परन्तु अधिकतर स्वास्थ्य और कल्याण की भावना में। शुक्र ग्रह रीढ़ की पूरी हड्डी, रीढ़ की हड्डी के क्षेत्र और साथ ही हृदय-संवहनी प्रणाली की सही शक्ति के लिए जिम्मेदार है। यह वित्तों और सम्पदाओं के प्रति हमारे दृष्टिकोण में हमें प्रभावित करता है।

मंगल ग्रह

राशिफलों में, मंगल ग्रह शारीरिक ऊर्जा, शक्ति और इच्छा का प्रतिनिधित्व करता है। सबसे शक्तिशाली प्रभाव मेष और वृश्चिक पर है। यदि यह ग्रह, उदाहरण के लिए, पृथ्वी के अधिक समीप है, तो यह अशाँति या यहाँ तक कि हमारे व्यक्तित्वों में छिद्रान्वेषी होने का कारण हो सकता है। मंगल ग्रह अपने आप को बढ़ावा देने का प्रारम्भक है। यह साहस और पहल को प्रोत्साहित करता है। यह यौन ऊर्जा और विपरी लिंग के लिए सम्बन्ध का भी प्रतीक है।

बृहस्पति ग्रह

बृहस्पति मीन और धनु राशियों का स्वामी है। यह अच्छाई, समृद्धि का एक ग्रह है, और सकारात्मक प्रगति को प्रभावित करता है। यह हमें ऐसे महत्वपूर्ण जीवन चरणों का एहसास होने में प्रेरित करता है जिनके दौरान महत्वपूर्ण जीवन सबकों को लागू किया जाना चाहिए। यह हमें हमारे जीवन पथों पर चलने के लिए प्रोत्साहित करने के प्रयास में हमें भाग्य प्रदान करता है। इसमें नकारात्मक तरीकों में हमें प्रभावित करने की क्षमता भी है जैसे कि जोखिमों को उठाना, जुआ खेलना, और ख़तरनाक तरीके से ख़तरनाक होना।

शनि ग्रह

शनि एक महत्वपूर्ण दशा में है। यह हमें गम्भीर और रूढ़िवादी बनने के लिए प्रभावित करता है। यह ग्रह अधिकतर कुंभ और मकर राशियों को प्रभावित करता है। यह भाग्य का एक वाचक भी है, परन्तु अधिकतर, सामाजिक परिप्रेक्ष्य से। यह हमारे कैरियर और व्यक्तिगत विकास के लिए महत्वपूर्ण विभिन्न अनुभवों के प्रति हमारे रवैए को प्रभावित करता है।

यूरेनस ग्रह

यूरेनस कुंभ का स्वामी भी है। इसकी खोज वर्ष 1781 में अपेक्षाकृत हाल ही में हुई थी, यही कारण है क्यों अब यह बुद्धि और आविष्कारों का प्रतीक बन गया है। यह मुख्य रूप से अन्वेषकों, सुधारकों, वैज्ञानिकों, और साथ ही विद्युत में रुचि रखने वालों का प्रतिनिधित्व करता है। यूरेनस ग्रह तजुर्बा करने, रचनात्मकता और मौलिकता के साथ हमारे सम्बन्ध के बारे में है।

नेपच्यून ग्रह

नेपच्यून की खोज वर्ष 1846 तक नहीं हुई थी। अपनी ऊर्जा की प्रकृति से, यह मीन राशि के साथ जुड़ा हुआ है। इसका प्रभाव हमारी कल्पना या यहाँ तक कि विभिन्न असाधारण गतिविधियों पर है, जो समस्याएँ पैदा कर सकती है जब यह ग्रह किसी नकारात्मक दशा में है। यह प्रेम, रोमाँस और फ़ैशन के प्रति आपकी इच्छाओं को तीव्र करता है।

 

प्रतिपुष्टिFacebook