अमावस्याएँ 2017/2018

साल 2017/2018 के नए चन्द्रमाओ के व्यवस्था किये गए चार्ट से आप सटीक तारीक एवं समय का पता लगा सकते है जब एक नया चन्द्रमा घटित होगा. इसके अलावा आप यह भी पता कर सकते है की ए चन्द्रमा के कारण कौसा राशिफल सबसे ज़्यादा पेअभावित होगा. इस तरीके से अप्प आसानी से पता लगा सकते है की आपका बड़ा दिन कब होगा.

अमावस्याएँ 2017/2018

निचे दिए गए चार्ट के अनुसार: 2017/2018 के नए चन्द्रमा में= यह साल आपके स्वस्थ के लिए बहोत ज़रूरी है. अपने आप को आश्चर्यचकित न होने दे और लेख पड़ते रहे.

23.7. 2017  11:47सिंह राशि   39 '
21.8. 2017  20:31सिंह राशि > कन्या राशि
20.9. 2017  07:30कन्या राशि   28°55 '
19.10. 2017  21:12तुला राशि   27°37 '
18.11. 2017  12:42वृश्चिक राशि   26°45 '
18.12. 2017  07:31धनु राशि   26°20 '
17.1. 2018  03:18मकर राशि   26°25 '
15.2. 2018  22:06कुंभ राशि   26°49 '
17.3. 2018  14:14मीन राशि   27°09 '
16.4. 2018  03:59मेष राशि   -3°.02 '
15.5. 2018  13:49वृष राशि   26°03 '
13.6. 2018  21:45मिथुन राशि   24°30 '
13.7. 2018  04:49कर्क राशि   22°36 '

पूर्णिमाओं और अमावस्याओं की तिथियाँ और समय

आपके स्वास्थ्य के लिए, यह आवश्यक है कि इन तिथियों से परिचित हों। आप अन्वेषण करेंगे: क्वांटम होम्योपैथी का उपयोग करने के सबसे उपयुक्त समय, ओर साथ ही इससे बचने के समय। चन्द्रमा की कलाएँ मादक पदार्थों पर किसी व्यक्ति की निर्भरता या यहाँ तक कि इनकी लत को भी प्रभावित करती हैं, पूर्णिमा से पहले यह इसलिए सबसे अच्छा है कि किन्हीं भी लत पड़ने वाले पदार्थों से दूर रहें। दूसरी ओर, अमावस्या दवाओं के नकारात्मक प्रभाव को कमज़ोर करता है; फिर भी ऐसा कहने को नकारा नहीं जा सकता है कि मादक दवाएँ सदैव हानिकारक हैं।

अमावस्या और पहला चतुर्थांश

हम अमावस्या की कलाओं को देखते हैं यदि सूर्य, चन्द्रमा और पृथ्वी एक रेखा में हैं। यह तब और केवल तब होता है कि सूर्य की किरणें चन्द्रमा के अँधेरे पक्ष पर चमकती है इसलिए चन्द्रमा को अंधेरा दिखाई देता, अदृश्य बनाती हैं। सूर्य चन्द्रमा को धुँधला कर देता है क्योंकि यह इस चमकदार नक्षत्र के बहुत निकट है। सबसे जल्दी हम, एक बार फिर से, इसे अमावस्या के दो दिन बाद देख सकते हैं। चन्द्रमा धीरे-धीरे एक छोटे वक्र का आकार पाता है, अन्ततः एक 'डी' के आकार तक बढ़ता है।

चन्द्रमा का पहले चतुर्थांश में 'डी' आकार होता है, जब चन्द्रमा और सूर्य के बीच का कोण सटीक 90 अंश है। पूर्णिमा के बाद, यह अंतिम चतुर्थांश तक जारी रहता है और इसे अस्त होना कहा जाता है। इसका आकार सी वर्ण जैसा दिखता है।

सूर्य ग्रहण

एक बहुत ही विशेष घटना को जो केवल किसी अमावस्या के दौरान होती है, सूर्यग्रहण कहा जाता है। वास्तव में यह मात्र एक संयोग है कि सूर्य और चन्द्रमा के कोणीय व्यास, जैसे पृथ्वी से देखे जाते हैं, परस्पर विरोध करते हैं और इसलिए समय-समय पर एक-दूसरे को ढँक लेते हैं। इसे पूर्ण ग्रहण और कुंडलाकार ग्रहण दोनों के रूप में देखा जा सकता है।

खगोलीय परिप्रेक्ष्य से अमावस्या 2017/2018

अमावस्या किसी पूर्णिमा की विपरीत होती है, एक वियुति से एक युति तक स्थान बदलते हुए, सूर्य और चन्द्रमा दोनों एक ही राशि में आसीन होते हैं। इस तथ्य के बावजूद कि शारीरिक और मानसिक भलाई के सम्बन्ध में यह एक बहुत ही सकारात्मक समय है, यह अपरिहार्य है कि कुछ व्यक्तियों को कुछ कठिनाइयाँ अनुभव हो सकती हैं। यह इस कारण से है कि चिकित्सा हस्तक्षेप से बचा जाना चाहिए। यद्यपि शल्यक्रियाएँ कोई विशेष ख़तरा नहीं प्रस्तुत करती हैं।

वर्ष 2017/2018 के लिए तालिका

यह स्पष्ट तालिका वर्ष 2017/2018 में प्रत्येक अमावस्या की सटीक तिथि और समय को दिखाती है। जो राशि अमावस्या के दौरान सबसे अधिक प्रभावशाली है, वह भी दिखाई गई है। यह जानकारी आपके लिए अपने प्रख्यात दिन को किसी ऊर्जावान दृष्टिकोण से खोजने को सरल बनाती है।

 

प्रतिपुष्टिFacebook