23.5. 2019

चक्र मनुष्य के कंपन क्षेत्रों और ऊर्जा की महत्वपूर्ण प्रणाली हैं

जब आप कुछ पारंपरिक इलाजों और आध्यात्मिक अभ्यासों में दिलचस्पी लेने लगते हैं तो, आपको निश्चित रूप से चक्रों की अवधारणा का सामना करना होगा | यह शब्द संस्कृत से निकलता है और जिस का शाब्दिक अनुवाद “घूमने वाली ऊर्जा का पहिया” के रूप में किया जा सकता है | हिंदुओं के अनुसार, चक्र इसीलिए होते हैं | यह मानव शरीर में 80 हजार से ज्यादा होते हैं और यह सभी आपस में जुड़े होते हैं | इस प्रणाली के केंद्र में सात चक्र होते हैं, जो रीड की हड्डी के साथ में जुड़े होते हैं और परस्पर एक दूसरे से संयोजित होते हैं |

सभी चक्रों को अलौकिक ऊर्जा प्राप्त होती है, जो इसे परिवर्तित करते हैं और हमारे पूरे शरीर में बांटते हुए वापस बाहर के वातावरण में छोड़ते हैं | यह सब उन की घूर्णन गति के द्वारा होता है, जिसकी दिशा हमेशा परिवर्तनशील होती है - एक चक्र घड़ी की सुई के अनुसार घूमता है, और दूसरा बिल्कुल इसके विपरीत तरह से | यह बहुत रोचक है कि पुरुषों में पहला चक्र दाएं तरफ (घड़ी की सुई की तरह) घूमता है, और वही महिलाओं में, पहला वाला बाएं (घड़ी की सुई घूमने की दिशा के विपरीत) की तरफ घूमता है, ताकि उनकी शिक्षाएं हमेशा विपरीत हों |

इन गतियों के द्वारा, चक्र अलौकिक ऊर्जा को और इसकी कार्य पद्धति को अच्छी तरह से सुनिश्चित करते हुए पूरे शरीर में समान रूप से विभाजित करते हैं | हालांकि, एक या एक से ज्यादा चक्रों में रुकावट आ सकती है, उदाहरण के लिए किसी सदमे की स्थिति के दौरान, जो ऊर्जा को दूसरे चक्रों में प्रवाह करने से रोकती है | यह किसी प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं या हमारे व्यावहारिक या विचारों में बदलाव के रूप में दिखाई दे सकता है | तो, मुख्य चक्र कौन से हैं और वह कैसे हमारे शरीर की कार्य पद्धति को प्रभावित करते हैं?

पहला, मूलचक्र, जो गुदा(पेरिनियम) के पास स्थित होता है और नीचे की तरफ खुलता है | इसका रंग लाल होता है और यह हमारे भौतिक संसार के संबंधों, भौतिक सुरक्षा, शारीरिक तकलीफ, और सुख का प्रतिनिधित्व करता है | जब इस में रुकावट आती है, तो यह ऊर्जा की कमी, अधिकार संबंधी आदतें, आक्रामक स्वभाव या स्वार्थ के रूप में दिखाई देती हैं |

दूसरा, सेवरल या नेवल चक्र, पेट के हिस्से में - नाभि और जनेंद्रियों के बीच स्थित होता है | यह चमकदार नारंगी रंग का होता है और सामने की तरफ खुलता है | इसकी कार्यपद्धती हमारी ये ऊर्जा, रचनात्मक, भावनात्मक जीवन और भावनाओं से जुड़ी होती है |, इसलिए जब इन में रुकावट आती है, तो एक व्यक्ति यौन संबंधों में रूखापन और दबी हुई भावनाओं का अनुभव कर सकता है |

तीसरा चक्र सोलर प्लेक्सस (मणिपुरा) चमकदार पीले रंग का यह चक्र जो नाभि से थोड़ा सा ऊपर स्थित होता है, और सामने की तरफ खुलता है | इसमें भावनाएं और शक्तियां केंद्रित होती हैं, जो आंतरिक संबंधों, सहानुभूतियों,द्वेषऔर हमारे मानसिक जीवन का प्रतिनिधित्व करती हैं | जिन लोगों में यह चक्र रुक जाता है वह अक्सर असंतुष्टि, बेचैनी और अभाव महसूस करते हैं |

चौथा, हृदय चक्र, सीने के बीच में जहां ह्रदय होता है, वही होता है, इसका रंग हरा होता है और पिछले दोनों चक्रों की तरह यह भी सामने से ही खुलता है | आध्यात्मिक मामलों से जुड़े हुए तीनों चक्रों में यह पहला चक्र है | यह प्रेम और सहानुभूति का केंद्र होता है और इसके साथ ही ऊपर और नीचे के चक्रों के बीच संपर्क जोड़ने वाला महत्वपूर्ण आधार भी है | जब इस चक्कर में रुकावट आती है तो एक व्यक्ति किसी से प्रेम और सहानुभूति दिखाने या उसे प्राप्त करने में असमर्थ होता है |

कंठ चक्र का उद्देश्य, जो पांचवा चक्र है, हमारी बातचीत करने की क्षमताओं, इच्छाओं और हमारी जिम्मेदारी स्वीकार करने की प्रतिक्रियाओं से संबंधित है | इस ऊर्जा केंद्र का रंग हल्का नीला है, और यह कंठ में स्थित होता है और यह भी सामने से ही खुलता है | इस में रुकावट आने पर यह कमजोर आवाज़, शर्म, और बात करने के दोषों के जरिए प्रकट होता है |

छठा, त्रिनेत्र चक्र का रंग गहरा नीला या बैंगनी होता है और यह भौहों के बीच माथे के बीच में स्थित होता है | यह उच्च कोटि की अलौकिक शक्तियां, समझ बुद्धि, स्मरण शक्ति आत्मविश्वास और अनंत दिव्य प्रेम का वर्णन करती हैं | जिन लोगों का त्रिनेत्र चक्र अवरुद्ध होता है उनका व्यवहार ऐसा हो सकता है जैसे उनके दिमाग ने काम करना बंद कर दिया हो और वह अपनी आत्मा की सही आवाज सुनने में असमर्थ होते हैं |

शीर्ष चक्र सर के ऊपर स्थित होता है यह बैंगनी रंग का ऊपर की तरफ होता है; इस वजह से इसे यह नाम मिला है | यह तब खुलता है जब सभी ट्रक पूरी तरह मिलजुल कर काम करते हैं, और जिनके परिणाम स्वरूप एक व्यक्ति अपने अलौकिक आत्मा और चेतना से जुड़ता है | इसमें रुकावट आने पर माइग्रेन, अनिद्रा या अवसाद, अल्जाइमर रोग या शिजोफ्रेनिया जैसी मानसिक बीमारियां हो सकती हैं |

 

प्रतिपुष्टिFacebook