8.1. 2020

2020 की पूर्णिमाएं और अमावस्याऐं

हमारे जीवन पर वास्तव में मौलिक प्रभाव होता है। यह न केवल पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण बल और ज्वार की ताकत को प्रभावित करता है, बल्कि मानव चेतना और स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है। इस वजह से, चंद्रमा के महत्वपूर्ण चरणों पर नज़र रखना बेहद ज़रूरी है, तो क्या आप वास्तव में जानते हैं कि उनके सकारात्मक या नकारात्मक प्रभावों से निपटने की तैयारी कब करें ।

2020  की पूर्णिमाएं और अमावस्याऐं

पूर्णिमा चंद्रमा का सबसे मजबूत चरण है, जिसका हमारी नींद पर बड़ा प्रभाव पड़ता है। इस अवधि में, लोगों को नींद ना आना, नींद में चलना और बुरे सपने देखने की संभावना होती है। इसलिए, इन अप्रिय प्रभावों से निपटने की तैयारी के लिए हमारे अनुभाग @पूर्णिमां 2020 @ को एक बार ज़रूर पढ़ें ।

दूसरी ओर, अमावस्या के दौरान, हमारा मन कमज़ोर हो जाता है; हम अकेलापन और निराशा महूसस करते हैं। अनुभाग @अमावस्याएँ 2020 @ से अपडेटिड जानकारी के साथ, आप इसके नकारात्मक प्रभावों से निपटने के लिए पहले से तैयारी कर सकते हैं।इसका प्रभाव काम करने का सबसे आसान तरीका उपवास है, जो आपके शरीर को आश्चर्यजनक रूप से हल्का महसूस कराता है।